जिला परिचय

जिले के प्रमुख आंकड़े

1.1भौगोलिक स्‍थित:--

भारत वर्ष की हृदय स्‍थली मध्‍यप्रदेश राज्‍य के हृदय स्‍थल भोपाल जिले का गठन वर्ष 1972 में हुआ । प्रदेश की राजधानी भोपाल से लगी सीमाओं में स्‍थित सीहोर, राजगढ़, रायसेन एवं विदिशा जिले हैं । भोपाल जिले ने अनेकता में एकता की परिकल्‍पना को साकार किया है । यहॉं सभी धर्म एवं सम्‍प्रदाय के लोग आपसी सद्भावना एवं भाईचारे से रहते हैं । जिले में ग्रामीण एवं नगरीय संस्‍कृति के प्रमुख केन्‍द्र भारत भवन, मानव संग्रहालय, संस्‍कृति भवन, स्‍वराज भवन एवं रवीन्‍द्र सांस्‍कृतिक भवन आदि हैं । वन्‍यप्राणियों के संरक्षण हेतु वन विहार भी विकसित किया गया है, जिसमें विभिन्‍न प्रजातियों के दुर्लभ वन्‍य प्राणी हैं । झीलों एवं पहाड़ियों से घिरा यह जिला अपनी प्राकृतिक छटा के लिए प्रसिद्ध है । देश की भव्‍य औद्योगिक इकाइयों में से एक भारत हैवी इलेक्‍ट्रीकल्‍स भोपाल ने जिले को गौरव प्रदान किया है ।

यह जिला भूमध्‍य रेखा से 23.07 से 23.54 उत्‍तर अक्षांश तथा 77.12 से 77.40 पूर्व देशांश के मध्‍य स्‍थित है एवं समुद्र तल से ऊँचाई अधिकतम 505 मीटर एवं न्‍यूनतम 180 मीटर है । इस जिले की जलवायु रम्‍य एवं स्‍वास्‍थ्‍यवर्धक है । यह जिला भारत के शुष्‍क भाग में आता है, जिले की औसत वर्षा 992 मि.मी. है ।

 

Census 2011 District Profile